#F5F5F5
Adobe Experience Manager Sites फ़ीचर्स

डेवलपर टूल्स

Experience Manager Sites से आपको प्री-ऑप्टिमाइज़्ड कोड और फ़्लेक्सिबल टूल्स मिलते हैं जिससे आप सबसे ज़्यादा परफ़ॉर्म करने वाले वेबपेजेज़ बना सकें. Edge Delivery Services से आप किसी भी डिज़ाइन, फ़ीचर या कॉन्टेंट से समझौता किए बिना पीक वेब परफ़ॉर्मेंस स्कोर पा सकते हैं.

डेवलपर टूल्स को एक्सप्लोर करें.

https://business.adobe.com/fragments/products/modal/videos/adobe-experience-manager/sites/developer-tools/graphql#video |

GraphQL

Experience Manager का GraphQL API डेवलपरों को कॉन्टेंट के बारे में प्रश्न करने और इसे रिट्रीव करने के लिए इंडस्ट्री स्टैंडर्ड, ऐप्लिकेशन-एगनोस्टिक क्वेरी लैंग्वेज फ़ॉर्मैट देता है. इसे इस तरह डिज़ाइन किया गया है कि यह कॉम्पेक्ट और एफ़िशिएंट हो जिससे केवल रिक्वेस्ट किया गया कॉन्टेंट ही प्राप्त हो जिससे रिस्पॉन्सेज़ रिक्वेस्ट करने वाले ऐप के फ़ॉर्मैट और ज़रूरतों से मैच करें. क्वेरीज़ से नेस्टेड कॉन्टेंट भी प्राप्त हो सकता है और एक कॉल में बहुत से संबंधित आइटम्स भी प्राप्त हो सकते हैं जिससे कॉन्टेंट को रिट्रीव करने के लिए आवश्यक समय एवं बैंडविड्थ और ऐप ज़रूरतें बहुत कम हो जाती हैं. इसके नतीजे में सभी डिजिटल चैनलों पर रिस्पॉन्सिव और ब्रांड से संबंधित तेज़, ऐप जैसे अनुभव मिलते हैं.

  • हेडलेस कॉन्टेंट डिलीवरी. Experience Manager के हेडलेस API के साथ GraphQL की क्वेरी लैंग्वेज का इस्तेमाल करते हुए JSON फ़ॉर्मैट में अपने सभी ऐप्स में कॉन्टेंट डिलीवर करें.
  • रेलिवेंट डेटा. ऐप द्वारा रेंडर करने के लिए ज़रूरी सभी एलिमेंट्स, वेरिएशन्स और नेस्टेड रेफ़्रेंसेज़ के साथ Query Experience Manager Content Fragments.
  • तेज़, स्केलेबल परफ़ॉर्मेंस. निरंतर क्वेरीज़ वेब आर्किटेक्चर के साथ-साथ CDNs में कैशिंग के लिए डिज़ाइन किए गए कैशे योग्य कॉन्टेंट क्वेरीज़ से सबसे तेज़ कस्टमर एक्सपीरिएंसेज़ एनश्योर करती हैं.
  • टूल और लैंग्वेज ऑप्शंस. GraphQL फ़्रंट-एंड एगनोस्टिक है और यह SDKs पर निर्भरता को सीमित करता है जिससे डेवलपर्स अपने द्वारा चुनी गई लैंग्वेज या टूल्स (React, Angular, iOS) पर काम कर पाते हैं.
  • पावरफ़ुल स्ट्रक्चर्ड कॉन्टेंट. Content Fragment मॉडल्स बहुत से फ़ील्ड प्रकारों और परस्पर संबंध क्रिएट करने की एबिलिटी को सपोर्ट करते हैं जिससे पावरफ़ुल और दोबारा इस्तेमाल योग्य कॉन्टेंट मॉडल्स और एटॉमिक कॉन्टेंट क्रिएट करना आसान हो जाता है.

आउट-ऑफ़-द-बॉक्स कम्पोनेंट्स

ब्रेडक्रम्ब्स, फ़ॉर्म्स, पेज नेविगेशन, सर्च टीज़र्स और सर्च जैसे बैकवर्ड-कम्पैटिबल और फ्लेक्सिबल आउट-ऑफ़-द-बॉक्स कंपोनेंट्स के साथ पेजेज़ क्रिएट करें. इससे ऑथर्स के लिए पेज बनाना आसान हो जाता है जबकि डेवलपर्स की प्रोडक्टिविटी बढ़ती है और उनके कस्टम टेक्स्ट या इमेज कम्पोनेंट्स को बनाने में लगने वाला समय बचता है.

  • फंक्शनल कम्पोनेंट्स. हर आउट-ऑफ़-द-बॉक्स कम्पोनेंट स्क्रिप्ट्स का ऐसा कलेक्शन है जो पूरी तरह से खास फ़ंक्शन डिलीवर करता है.
  • संबंधों की विरासत पाएँ. अलग-अलग वेब पेजेज़ और चैनल्स पर इस्तेमाल किए जाने पर भी कंपोनेंट्स इनहेरिटेंस को बचाए रखते हैं.
  • ओनरशिप की कम कॉस्ट. Experience Manager Sites कंपोनेंट्स अपग्रेड करने योग्य, बैकवर्ड्स कम्पैटिबल और नियमित रूप से वर्शन्ड हैं. इससे आप नवीनतम रिलीज़ में अपग्रेड करने या साइट की फंक्शनैलिटी बढ़ाए जाने पर पैसा बचा पाते है.
  • ऐसे कम्पोनेंट्स जिन पर आप भरोसा कर सकते हैं. हमारे पहले से टेस्टेड, प्रोडक्शन के लिए तैयार कम्पोनेंट्स के साथ, आप इस बारे में निश्चिंत हो सकते हैं कि ये कम्पोनेंट्स उम्मीद के मुताबिक काम करेंगे. इससे आपको क्वालिटी एश्योरेंस, टेस्टिंग और मेनटेनेंस पर कम समय खर्च करने और वास्तव में अहम चीज़ों पर अधिक समय बिताने में मदद मिलती है.
https://business.adobe.com/fragments/products/modal/videos/adobe-experience-manager/sites/developer-tools/single-page-app-editing#spa |

सिंगल-पेज ऐप एडिटिंग

आपके द्वारा वेबसाइट्स के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले समान ड्रैग-एंड-ड्रॉप एडिटर के साथ React और Angular जैसे ओपन-सोर्स फ़्रेमवर्क्स पर बनाए गए सिंगल-पेज ऐप्लिकेशंस (SPAs) को एडिट और मैनेज करें.

  • सीमलेस लेआउट. हमारे SPA एडिटर में मौजूद ड्रैग-एंड-ड्रॉप सर्विसेज़ के ज़रिए Experience Manager Sites की केपेबिलिटीज़ डिलीवर करें
  • CMS गवर्नेंस. मार्केटर्स और कोडिंग न करने वाले लोग SPAs को एडिट और मैनेज करने के लिए Experience Manager Sites में CMS केपेबिलिटीज़ का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • कॉन्टेक्स्ट में एडिट करें. ऑथर्स को तब बदलावों को एडिट करने दें जब वे यह प्रीव्यू कर रहे हों कि यह कैसा दिखेगा, यहाँ तक ​​कि JSON के रूप में कॉन्टेंट का इस्तेमाल करने वाले वेब ऐप्लिकेशंस के लिए भी.
Separation of concerns.

कन्सर्न्स को अलग करना

कोड, कॉन्टेंट और डिज़ाइन के बीच सेपरेशन से कॉन्टेंट ऑथरिंग डिज़ाइन और डेवलपमेंट के समानांतर हो पाती है जिससे यह प्रोसेस ज़्यादा मॉड्यूलर और एजाइल हो जाती है. इसके अलावा, इस सेपरेशन से वेब एप्लिकेशन्स को डेवलप, डिबग और अपडेट करना आसान होने से मेंटेनेंस आसान हो जाता है जिससे डेवलपमेंट की स्पीड और एफ़िशिएंसी में सुधार होता है.

Optimized boilerplate code.

ऑप्टिमाइज़ किया हुआ बॉयलरप्लेट कोड

प्रोजेक्ट्स के लिए परफ़ॉर्मेंस-ऑप्टिमाइज़ ब्लूप्रिंट — हमारी बॉयलरप्लेट कोड फ़ाउंडेशन से डेवलपमेंट को जम्पस्टार्ट करें. बॉयलरप्लेट कोड फ़ाउंडेशन बेहतरीन प्रेक्टिसेज़ेज़ के अनुरूप है और इससे हाई परफ़ॉर्मेंस वाले एक्सपीरिएंसेज़ बनाने के लिए बेहतरीन संभव शुरुआती बिंदु मिलते हैं. डेवलपर्स प्रोजेक्ट्स को आसानी से शुरू करने, गैर-ज़रूरी कोड को कम करने और तेज़ पेज लोड टाइम हासिल करने के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते हैं.

#F1F1F1

डेवलपर टूल्स का इस्तेमाल करने का तरीका जानें.

डॉक्युमेंटेशन, ट्यूटोरियल्स और यूज़र गाइड्स समेत — हमारे ‘कैसे करें’ कॉन्टेंट के विशाल कलेक्शन Experience League में आपको जो चाहिए, उसे पाएँ.

और जानें